Shanky Studio Professional Visual Art Portfolio

कलाकृति में अवधारणा

एक कलाकार कैनवास पर कहानी को व्यक्त करने के लिए विभिन्न प्रतीकात्मक दृश्य वस्तुओं का उपयोग करता है। हालांकि, दर्शक अपनी पृष्ठभूमि के आधार पर कलाकृति की अलग-अलग विवेचना करते हैं, और उसका आनंद लेते हैं।

यहां हम “समाधि” नामक डिजिटल कलाकृति का विश्लेषण करने का प्रयास करेंगे, जो दूसरे कलाकारों को वैचारिक कलाकृति बनाने में सहायता और प्रोत्साहित करेगा। साथ ही दर्शकों के लिए इस कलाकृति के पीछे के सुराग और कहानी का खुलासा करना दिलचस्प होगा।

यह पेंटिंग सुरेंद्र शंकर आनंद द्वारा बनाई गई है। इस कलाकृति में पूरी कहानी कैवल्य (मोक्ष) के इर्द-गिर्द घूमती है, जो एक इंसान की अंतिम और आखिरी छलांग है। प्रत्येक दृश्य वस्तु के पीछे की अवधारणा को देखने के लिए नीचे चित्र पर नीले वृत मार्करों को स्पर्श करें।

Samadhi painting on sale buy painting

पद्मासन और ज्ञान मुद्रा में अंतर्मुख कन्या अंधेरे से प्रकाश में परिवर्तित हो रही है, जो अज्ञानता से आत्म-साक्षात्कार की यात्रा का प्रतीक है। कन्या की चेतना उसके आंतरिक-स्व में लीन है, और इसलिए कन्या का बाहर भूमि पर कोई बाहरी प्रतिबिंब नहीं है।

1 of 7

दर्शकों के प्रतिबिंब बाहर भूमि पर हैं, जिसका अर्थ है कि उनकी चेतना बाह्य संसार के स्थूल पदार्थ में लीन है।

2 of 7

देवत्व (चेतन तत्त्व) का प्रतिनिधित्व करने वाले त्रिशूल से हरा प्रकाश उत्सर्जित हो रहा है। त्रिशूल के दो रंग – हरा और काला, क्रमशः स्वयंसिद्ध सिद्धांत, चेतन तत्त्व शिव और उसकी अविभाज्य जड़ शक्ति को दर्शाते हैं। यह सवत्र सर्व्यापक दिव्यता, समाधि में कन्या, आसपास के लोगों और समस्त ब्रह्मांड को चंद्रमा और सितारों को प्रकाषित कर रहा है। त्रिशूल कलाकृति के ठीक बीच में स्थित है अर्थात् समस्त ब्रह्माण्ड का स्रोत है।

3 of 7

आकाश में स्थित बादल, समाधि में कन्या की ओर इशारा कर रहे हैं, जैसे कि पूरा ब्रह्मांड कन्या अपने स्वयं को अनुभव करने के अपने अंतिम प्रयास में, कन्या की सहायता कर रहा है।

4 of 7

सवत्र सर्व्यापक दिव्यता, समाधि में कन्या, आसपास के लोगों और समस्त ब्रह्मांड को चंद्रमा और सितारों को प्रकाषित कर रहा है।

5 of 7

अज्ञानी लोग अपने अंधेरे में विलीन हैं, और इस दिव्य घटना को भी नहीं देख पाते हैं, जो कन्या के साथ हो रही है।

6 of 7

The girl’s consciousness is absorbed in her Inner-Self, and therefore she does not have any outward reflection on the ground. 

7 of 7

इस कलाकृति के पीछे की आध्यात्मिक अवधारणा 

  1. इस कलाकृति की संकल्पना की संरचना के लिए इस में विभिन्न स्थानीय प्रतीकात्मक दृश्य तत्व जैसे त्रिशूल, समाधिष्ट कन्या, समुद्र तट, दर्शक, दर्शकों के प्रतिबिंब, रहस्यमय रात्रि, शुक्ल प्रतिपदा का चंद्रमा, सितारे, और आकाश में स्थित बादल आदि का प्रयोग किया गया है।
  2. इस ब्रह्मांड के पञ्च तत्त्व अर्थात् आकाश, वायु, अग्नि, जल, और पृथ्वी क्रमशा कलाकृति में आकाश, बादलों में गति, हरी रोशनी, पानी और समुद्र तट का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  3. इस कलाकृति में देवत्व (चेतन तत्त्व) का प्रतिनिधित्व करने वाले त्रिशूल से हरे रंग के आलोक को उत्सर्जित कर रहा है। त्रिशूल के दो रंग – हरा और काला, क्रमशः स्वयंसिद्ध सिद्धांत, चेतन तत्त्व शिव और उसकी अविभाज्य जड़ शक्ति को दर्शाते हैं। त्रिशूल कलाकृति के ठीक बीच में स्थित है अर्थात् समस्त ब्रह्माण्ड का एक मात्र स्रोत है।
  4. यह सवत्र सर्व्यापक आलोक की दिव्यता, कन्या, आसपास के लोगों और समस्त ब्रह्मांड को, चंद्रमा और सितारों को प्रकाषित कर रही है। आकाश में स्थित बादल, कन्या की ओर इशारा कर रहे हैं, जैसे कि पूरा ब्रह्मांड कन्या अपने स्वयं को अनुभव करने के अपने अंतिम प्रयास में, कन्या की सहायता कर रहा है। आकाश का खुलापन और हल्का प्रकाश क्रमशः मन की पूर्ण शून्यता और आत्मजागृति की सुबह की शुरुआत का प्रतिनिधित्व कर रहा है।
  5. साधक कन्या, मन के अतिउत्तम स्त्री गुणों का प्रतिनिधित्व करती है जैसे सहजता, श्रद्धा, सत्कार, भक्ति, समर्पण, स्वीकृति आदि, जो आध्यात्मिकता के लिए सबसे अनुकूल हैं।
  6. पद्मासन और ज्ञान मुद्रा में अंतर्मुख हुई कन्या, अंधेरे से प्रकाश में परिवर्तित हो रही है, जो अज्ञानता से आत्म-साक्षात्कार की यात्रा का प्रतीक है।
  7. कन्या की चेतना उसके अन्तर-आत्मा में लीन है, और इसलिए कन्या का बाहर भूमि पर कोई बाहरी प्रतिबिंब नहीं है। इसके विपरीत, दर्शकों के प्रतिबिंब बाहर भूमि पर हैं, जिसका अर्थ है कि उनकी चेतना बाह्य संसार के स्थूल पदार्थ में आसक्त है। दूसरी ओर, कलाकृति के बाईं ओर अज्ञानी लोग अपने अज्ञान के अंधेरे में विलीन हैं, और इस दिव्य घटना को भी नहीं देख पाते हैं, जो कन्या के साथ हो रही है।
  8. महर्षि पतंजलि के द्वारा कृत प्राचीन शास्त्र योग दर्शन (सूत्र 3.3) के अनुसार, ध्यान के परिपक्व होने के पश्चात्, केवल ध्यान के विषय ध्येय का प्रत्यक्ष अर्थात् स्मृति से रहित विशेष-ज्ञान का दर्शन होना, और स्वयं का शून्य जैसे प्रतीत होना समाधि है।
  9. अंतर्मुख हुई कन्या अपने स्वयं पर समाधि कर रही है, इसलिए कन्या की आत्मा स्वयं की सहायता से, स्वयं में स्थापित हो कर, स्वयं की अनुभूति कर रही है। स्वयं के इस ज्ञान को आत्मज्ञान अथवा आत्मज्ञान के प्रकाश के रूप में जाना जाता है, जो हरे रंग के आलोक के रूप में दर्शित की गई है।

डिजाइन और संरचना के सिद्धांत का कार्यान्वयन 

  1. डिजाइन के दृष्टिकोण से, वस्तुओं को तिहाई के नियम के अनुसार रखा गया है। कन्या का चेहरा, धड़, देखने वाले का चेहरा और देखने वाले का प्रतिबिंब ग्रिड के अनुप्रस्थ काट पर रखा गया है।
  2. दर्शकों की आंखों की गति को नियंत्रित करने के लिए चंद्रमा, कन्या का चेहरा, त्रिशूल और देखने वाले का प्रतिबिंब विकर्ण रेखा का अनुसरण करता है। यही बात देखने वाले के चेहरे, त्रिशूल और कन्या के धड़ पर भी लागू होती है। त्रिशूल कलाकृति के ठीक बीचो-बीच में स्थित है।
  3. इस कलाकृति को तीन आयामी गहराई दिखाने के लिए इस में चार परतें बनाई गई हैं। समाधि में कन्या और त्रिशूल पहली परत पर है। प्रतिबिम्ब वाले दर्शक दूसरी परत पर हैं, और अन्य लोग तीसरी परत पर अंधेरे क्षेत्र में हैं। क्षितिज और पृष्ठभूमि चौथी परत पर हैं।
  4. समाधिष्ट कन्या इस कलाकृति का प्रमुख केन्द्र है। दर्शकों का ध्यान वापस कन्या की ओर लाने के लिए विभिन्न दृश्य तत्वों का उपयोग किया गया है –
    1. कन्या पहली परत पर है।
    2. कन्या में अधिकतम कंट्रास्ट अर्थात् काले रंग की पृष्ठभूमि पर बिजली के नीले रंग के साथ, और अधिकतम विवरण हैं।
    3. दर्शक कन्या को देख रहे हैं।
    4. सारे बादल कन्या की तरफ इशारा कर रहे हैं।
    5. कन्या का चेहरा तिहाई के नियम के अनुसार ऊपरी बाएँ चौराहे के साथ संरेखित है।

आशा है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा, और कलाकृति के पीछे की प्रगाढ़ आध्यात्मिक अवधारणा सरलता से समझ आई होगी।

इस पेंटिंग को खरीदने के लिए कृपया इस लिंक https://www.shankystudio.com/product/buy-readymade-painting/ पर जाएं।

सुझाव, सम्पर्क करने और अधिक जानकारी पाने के लिए कृपया www.ShankyStudio.com/contact-us/ देखें।

Samadhi-Painting-Concept-shanky-studio-surinder-shanker-anand

Online Visual Art Courses for Adults & Kids

Best quality in best prices

Fundamentals | Acrylic Painting | Watercolor Painting | Oil Color Painting | Colored Pencil Painting | Soft Pastel Paintings | Portrait | Landscape | Abstract | Digital Design | Human Anatomy | Fashion Illustration |

Buy

1 thought on “कलाकृति में अवधारणा”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

three × three =

Scroll to Top